You are here
Home > Editor's Choice > लालू प्रसाद के पुत्रों की मुश्किलें और बढ़ाएगी भाजपा, जानिए गेम प्लान

लालू प्रसाद के पुत्रों की मुश्किलें और बढ़ाएगी भाजपा, जानिए गेम प्लान

राजद सुप्रीमो लालू यादव कुनबे के खिलाफ मिट्टी घोटाले से निकली चिंगारी दावानल का शक्ल लेती जा रही है। दरअसल, भाजपा ने महज चंद लाख रुपये के कथित मिट्टी घोटाले के खुलासे की आड़ में राजद सुप्रीमो के दोनो मंत्री पुत्र तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव के राजनीतिक मुश्किलें बढ़ाने की ठान ली है।

यही वजह है कि 2015 विधानसभा चुनाव के दौरान संपत्ति संबंधित जानकारी घोषित करने की चूक हो या फिर बतौर मंत्री सरकारी प्रक्रिया के तहत जनता के सामने संपत्ति घोषित करने का मामला सभी को आधार बनाकर भाजपाई राजद के भावी वारिसों को कठघरे में खड़ा की पटकथा लिखने में जुट गए हैं।

इसी कड़ी में पहले सुनियोजित तरीके से अघोषित संपत्ति, फिर दान में ली गई प्रोपर्टी और अब पार्टी कार्यालय पर हमले को लेकर भाजपाइयों ने कानूनी लड़ाई की चेतावनी दी है। बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने पार्टी कार्यालय पर राजद कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए हमले को लोकतंत्र का कुकृत्य बताते हुए तेज प्रताप, तेजस्वी और लालू यादव को जिम्मेदार ठहराया है।

नित्यानंद कह चुके हैं कि वह अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे।  इससे साफ है कि भाजपा राजद सुप्रीमो और उनके मंत्री पुत्रों के खिलाफ आने वाले दिनोंं नें और आक्रामक होगी। इसी तरह भाजपा विधानमंडल दल के नेता सुशील मोदी भी लालू कुनबे के खिलाफ आक्रमक तेवर में दिख रहे हैं।

भाजपा को लालू विरोधी सियासत लाभ भी देती है। यही वजह है कि भाजपाई सीधे महागठबंधन सरकार को निशाने पर लेने के बजाए लालू की आड़ में कानून व्यवस्था से लेकर बिहार में बढ़ते भ्रष्टाचार को मुद्दा बना रहे हैं।

भाजपा हर हाल में लालू विरोधी मुहिम को मुद्दा बनाए रखना चाहती है ताकि मिशन 2019 को आसानी से साधा जाए।

भविष्य की सियासत के लिहाज भाजपा के लिए लालू यादव के छोटे पुत्र और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की सौम्य छवि, वाकपटुता एवं धीर गंभीर राजनीति अंदाज खटक रहा है। ऐसे में संपत्ति संबंधित विवाद को ढाल बनाकर भाजपाई जहां तेजस्वी यादव घेरने का ताना-बाना  बुन रहे हैं, वहीं वन एवं पर्यावरण मंत्री तेज प्रताप यादव के राजनीतिक भविष्य को कानूनी भंवर में फंसाने के लिए भ्रष्ट राजनीतिज्ञ घोषित करने का दांव आजमा रहे हैं।

Source

Comments

comments