You are here
Editor's Choice 

इंजीनियरिंग छोड़ खूंखार आतंकी बने हिज्बुल कमांडर मूसा की पूरी कहानी

जाकिर रशीद भट्ट उर्फ मूसा को हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी की पिछले साल एनकाउंटर में हुई मौत के बाद नया कमांडर बनाया गया। हाल में कुछ अलगाववादी नेताओं को श्रीनगर के लाल चौक पर सिर कलम करने की धमकी देने के बाद सुर्खियों में आए हिज्बुल कमांडर मूसा ने खुद हिज्बुल से अपनी दूरियां बढ़ा ली।

ख़बरों के अनुसार, जाकिर ने उन अलगाववादी नेताओं को मारने की धमकी दी थी जिनकी नज़र में कश्मीर एक राजनीतिक मसला है। वहीं जाकिर का मानना है कि कश्मीर कोई राजनीतिक नहीं बल्कि एक इस्लामिक राज्य स्थापित करने की लड़ाई है।

इंजीनियरिंग का ड्राप आउट स्टूडेंट है मूसा

शनिवार को घाटी के अलगाववादियों और आतंकी नेतृत्व से अलग होने का ऐलान करनेवाले हिज्बुल कमांडर मूसा कश्मीर में इस्लामी जेहाद के एक बड़ा चेहरा है। 23 वर्षीय मूसा एक मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखता है जिसने आतंकी की दुनिया में कदम रखने से पहले चंडीगढ़ के प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज से पढ़ाई की थी। लेकिन, इंजीनियरिंग पढ़ाई में वह फेल हो गया। बीटेक में एडमिशन लिया था लेकिन 2013 के बीटेक एग्जाम्स में वह फेल हो गया था। जिसके बाद उसने पढ़ाई छोड़ दी और वापस पुलवामा में अपने गांव नूरपुर चला गया था।

10वीं में फर्स्ट डिवीजन से हुआ था पास

जाकिर राशिद भट्ट का जन्म 25 जुलाई 1994 को अवन्तिपुर के नूरपुर में हुआ था। मूसा के पिता अब्दुल राशिद भट्ट सिंचाई विभाग में सरकारी कर्मचारी हैं। मूसा का भाई शकीर श्रीनगर में डॉक्टर है जबकि उसकी बहन जम्मू-कश्मीर बैंक में कार्यरत है। मूसा को पुलवामा में जवाहर नवोदय विद्यालय में एडमिशन मिल गया था लेकिन उसने अपने गांव के नूर पब्लिक स्कूल में ही पढ़ाई जारी रखी और 10वीं परीक्षा में 65.4 प्रतिशत अंक प्राप्त किए। उसके बाद वह नूरपुर के उच्चतर माध्यमिक स्कूल में प्रवेश लिया और 12वीं की परीक्षा 64.8 प्रतिशत अंकों के साथ पास की।

2013 में हिज्बुल से जुड़ा मूसा

इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ने के बाद मूसा ने साल 2013 में बैन हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकी संगठन को ज्वाइन कर लिया। बुरहान वानी और इदरीस के सुरक्षा बलों की तरफ से मारे जाने के बाद मूसा को कमांडर बना दिया गया। ग्रेनेड हमले और हत्याओं के कई मामले मूसा के खिलाफ दर्ज है।

हाल में मूसा का वीडियो आया था सामने

हाल ही में जाकिर मूसा का एक नया वीडियो सामने आया था। इसमें उसने इस्लामिक शरिया के मुताबिक खलिफा राज्य स्थापित करने की बात कही थी। वहीं इसी वीडियो में जाकिर ने हिज्बुल से अपने संबंध खत्म करने की बात भी कही थी। अपने वीडियो संदेश में मूसा ने कहा था कि कश्मीर उसके लिए कोई फ्रीडम स्ट्रगल नहीं है बल्कि इस्लामिक स्ट्रगल है। अपनी इन्हीं बातों को लेकर हिज्बुल ने जाकिर से दूरी बना ली है।

Source

Loading...

Related posts